रंग गोरा करने का उबटन 2024

रंग गोरा करने का उबटन

शुरुआत में ही कह दूं कि मैं खुद इन रंग गोरा करने वाले उबटन का बहुत बड़ा प्रशंसक नहीं हूं। मेरा मानना है कि हर रंग खूबसूरत होता है और हमें अपने नैचुरल स्किन टोन से प्यार करना चाहिए। लेकिन फिर भी अगर आप अपना रंग थोड़ा गोरा करना चाहते हैं तो इस लेख से आपको मदद मिल सकती है।

रंग गोरा करने के उबटन क्या होते हैं?

रंग गोरा करने के उबटन वह उत्पाद होते हैं जिन्हें आप अपने चेहरे और शरीर पर लगाकर अपना रंग थोड़ा गोरा कर सकते हैं। ये आमतौर पर क्रीम या लोशन के रूप में होते हैं।

जब आप इन उबटन को लगाते हैं तो इनके कुछ एक्टिव इंग्रेडिएंट्स त्वचा में प्रवेश करते हैं और उसे अंदर से गोरा बनाने का काम करते हैं।

एक अच्छा रंग गोरा करने वाला उबटन त्वचा के लिए हानिकारक नहीं होना चाहिए और नैचुरल तरीके से रंग सुधारने में मदद करना चाहिए। लेकिन कुछ उत्पाद ऐसे भी होते हैं जो केमिकल इंग्रेडिएंट्स से भरे होते हैं और दीर्घकाल में त्वचा को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

इसलिए उबटन खरीदते समय सावधानी बरतनी चाहिए।

रंग गोरा करने के उबटन में कौन-कौन से इंग्रेडिएंट्स होते हैं?

रंग गोरा करने वाले उबटन में आमतौर पर निम्न प्रकार के इंग्रेडिएंट्स होते हैं:

1. हाइड्रोक्विनोन

यह एक केमिकल इंग्रेडिएंट होता है जो त्वचा के मेलेनिन उत्पादन को रोककर रंग को गोरा करने का काम करता है। लेकिन इसके दीर्घकालिक प्रभावों को लेकर स्वास्थ्य विशेषज्ञों में चिंता है।

2. विटामिन सी

यह एक प्राकृतिक इंग्रेडिएंट होता है जो त्वचा को अंदर से निखारकर गोरा बनाने में मदद कर सकता है। विटामिन सी एंटीऑक्सिडेंट के रूप में काम करता है।

3. नियासिनामाइड

यह भी त्वचा के रंग को कम करने के लिए प्रयोग किया जाने वाला एक केमिकल इंग्रेडिएंट है। लेकिन इसके दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं।

4. ग्लाइकोलिक एसिड

यह नैचुरल मूल का एक एसिड होता है जो त्वचा की सतह की परत को एक्सफोलिएट करके मृत त्वचा को हटाता है और नई त्वचा के निर्माण को बढ़ावा देता है।

5. एलोवेरा

आयुर्वेद में एलोवेरा का इस्तेमाल सदियों से त्वचा के रंग को गोरा बनाने के लिए किया जाता रहा है। इसमें नैचुरल ब्लीचिंग गुण होते हैं।

रंग गोरा करने के उबटन कैसे काम करते हैं?

रंग गोरा करने वाले उबटन काम करने की प्रक्रिया इस प्रकार है:

  1. सबसे पहले ये उबटन त्वचा की सतही परतों में प्रवेश करते हैं।
  2. फिर वे त्वचा में मौजूद मेलेनिन के उत्पादन को कम कर देते हैं। मेलेनिन वह पिगमेंट होता है जो हमारे रंग के लिए जिम्मेदार होता है।
  3. इस तरह मेलेनिन के उत्पादन में कमी से धीरे-धीरे त्वचा का रंग हल्का और गोरा होने लगता है।
  4. कुछ उबटन में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट्स भी त्वचा को अंदर से साफ़ और रोशन बनाने में मदद करते हैं।
  5. ऐसे उबटन का नियमित इस्तेमाल करने से धीरे-धीरे त्वचा का रंग बदलकर गोरा हो जाता है।

बस इतना सावधान रहिए कि ज्यादा केमिकल वाले उबटन से बचें, वरना आपकी त्वचा को नुकसान हो सकता है।

रंग गोरा करने के उबटन के फायदे और नुकसान

आइए जानते हैं रंग गोरा करने वाले उबटन के क्या फायदे और नुकसान हैं:

फायदे:

  • त्वचा का रंग गोरा और चमकदार होता है
  • दाग-धब्बे कम होते हैं
  • सूरज की किरणों से सुरक्षा मिलती है
  • त्वचा मुलायम और नरम होती है

नुकसान:

  • कुछ केमिकल इंग्रेडिएंट्स से एलर्जी, खुजली या निशान पड़ सकते हैं
  • दीर्घकाल में त्वचा पर हानिकारक प्रभाव पड़ सकता है
  • कुछ लोगों को एक्ने और पिंपल्स हो सकते हैं
  • बार-बार इस्तेमाल से त्वचा संवेदनशील हो सकती है
  • त्वचा पर निर्भरता बढ़ा सकते हैं

इसलिए उबटन का इस्तेमाल सावधानीपूर्वक करना चाहिए और नैचुरल विकल्प भी आजमाने चाहिए।

और पढ़े

बाज़ार में मिलने वाले कुछ प्रमुख रंग गोरा करने वाले उबटन के ब्रांड

भारतीय बाजार में रंग गोरा करने वाले कई उबटन और क्रीम उपलब्ध हैं, जैसे:

  • Fair & Lovely: इसे शायद इस कैटेगरी का सबसे पहले और व्यापक रूप से इस्तेमाल होने वाला ब्रांड कहा जा सकता है।
  • Garnier White Complete: गार्नियर की यह लाइन भी बहुत लोकप्रिय है।
  • Olay Natural White: ओले के इस रेंज में ज्यादातर नैचुरल इंग्रेडिएंट्स होते हैं।
  • Lakme Perfect Radiance: लक्मे की यह रंग गोरा करने वाली रेंज भी बाजार में उपलब्ध है।
  • Himalaya Herbals Fairness Kesar Face Pack: हिमालया हर्बल का यह फेस पैक नैचुरल इंग्रेडिएंट्स
  • VLCC Snigdha Skin Whitening Day Cream: VLCC की यह क्रीम भी लोकप्रिय है।
  • Biotique Bio Dandelion Ageless Lightening Serum: बायोटिक का यह सीरम नैचुरल इंग्रेडिएंट्स से बना है।
  • Kaya Skin Clinic Fairness Cream: काया स्किन क्लीनिक की यह क्रीम डॉक्टर्स द्वारा विकसित की गई है।
  • VLCC Insta Glow Gold Bleach: यह ब्लीच भी त्वचा का रंग गोरा करने का दावा करता है।
  • Lotus Herbals White Glow Skin Whitening: लोटस हर्बल्स की यह रंग गोरा करने वाली रेंज भी काफी लोकप्रिय है।

इनके अलावा भी कई स्थानीय और इंटरनेशनल ब्रांड के रंग गोरा करने वाले उत्पाद उपलब्ध हैं। लेकिन खरीदारी करते समय सामग्री की जांच जरूर कर लेनी चाहिए।

रंग गोरा करने का उबटन कैसे और कितनी बार इस्तेमाल करना चाहिए?

  • उबटन को इस्तेमाल करने का सबसे अच्छा वक्त सुबह और शाम होता है।
  • साफ और सूखी त्वचा पर ही इसे लगाना चाहिए।
  • उबटन की मात्रा बहुत ज्यादा नहीं होनी चाहिए, बस एक हल्की परत लगानी चाहिए।
  • उबटन को अच्छी तरह से त्वचा में आबदार कर लेना चाहिए।
  • एक दिन में दो बार, सुबह-शाम उबटन लगाना पर्याप्त है।
  • कम से कम 4-6 हफ़्ते तक नियमित रूप से इस्तेमाल करने पर ही असर दिखना शुरू होगा।
  • 8-12 हफ़्ते तक लगातार इस्तेमाल से बेहतर परिणाम मिल सकते हैं।

उबटन को इस तरह से इस्तेमाल करने से आपको अपनी त्वचा का रंग सुधारने में मदद मिल सकती है।

रंग गोरा करने के उबटन का सही तरीके से इस्तेमाल करने के टिप्स

रंग गोरा करने वाले उबटन को लगाते समय इन बातों का ध्यान रखें:

  • हल्के हाथों से मसाज करते हुए लगाएँ, मालिश न करें।
  • गर्म पानी से नहाने के बाद तुरंत न लगाएँ, त्वचा को ठंडा होने दें।
  • आंखों के आस-पास क्षेत्र पर न लगाएँ।
  • धूप में जाने से पहले सनस्क्रीन लगाना न भूलें।
  • अगर त्वचा में जलन, लालिमा या खुजली हो तो इस्तेमाल बंद कर दें।
  • खाने-पीने और जीवनशैली में भी स्वस्थ बदलाव लाएँ।

इन बातों का ध्यान रखकर उबटन का इस्तेमाल करेंगे तो आपको सबसे अच्छे परिणाम मिलेंगे।

रंग गोरा करने के उबटन के बजाय कुछ नैचुरल तरीके

अगर आप रंग गोरा करने वाले उबटन के बजाय कुछ नैचुरल उपाय अपनाना चाहते हैं तो कुछ विकल्प आपके लिए हैं:

  • एलोवेरा जेल: एलोवेरा जेल लगाने से त्वचा में नैचुरल ग्लो आता है।
  • केले का पेस्ट: केले के पेस्ट से मुहांसे भी दूर होते हैं और त्वचा भी गोरी नज़र आती है।
  • दही और शहद: दही और शहद का फेस पैक लगाने से भी त्वचा गोरी बनती है।
  • टमाटर: टमाटर का रस या पेस्ट लगाने से झाइयाँ कम होती हैं और त्वचा में चमक आती है।
  • नींबू का रस: विटामिन सी से भरपूर नींबू का रस भी ग्लो लाने में मदद करता है।

ऐसे कई नैचुरल तरीके हैं जो बिना किसी साइड इफेक्ट के त्वचा का रंग गोरा कर सकते हैं।

और पढ़े

निष्कर्ष

कुल मिलाकर, रंग गोरा करने के लिए उबटन एक विकल्प है, लेकिन इनका सावधानीपूर्वक इस्तेमाल किया जाना चाहिए। जबकि नैचुरल चीज़ें जैसे फल, सब्जियाँ और दूध आदि त्वचा को स्वस्थ रखते हुए उसे गोरा बनाने में मदद कर सकती हैं। हर रंग की त्वचा सुंदर होती है, इसलिए अपने नैचुरल रंग से प्यार करें और स्वस्थ रहें!

Leave a Comment